Subscribe Us

द्वारिका के नाथ



✍️रामगोपाल राही

 

दीन के सहारे प्रभु कष्ट से उबरे प्रभु 

महिमा अनंत हरि द्वारिका के नाथ की |

ब्रह्म पर ब्रह्म  चहूँ लोक परलोक माहीं 

गाथा है अनन्त प्रभु द्वारिका के नाथ की ||

 

गोमती के तट धाम शोभा बड़ी अभिराम ,

ध्वजा है अनोखी प्रभु ,द्वारिका के नाथ की |

गाथा है पुराण कहें ,गीता ,ग्रंथ सारे कहें ,

महिमा ना बिसारे प्रभु द्वारिका के नाथ की ||

 

गोमती के तट तीर -नीर प्रतिबिंम्ब तहाँ

छवि वहाँ निराली हरि द्वारिका के नाथ की |

सुरति  अनोखी तहाँ - मूरति अनोखी तहाँ, 

मन हरि  लेत छटा ,द्वारिका के नाथ की     ||

 

पाप ,शाप ,दुख, मिटे,  मोक्ष को है द्वार तहाँ 

कहते हैं पुराण कथा ,द्वारिका के नाथ की |

रहती ना निराशा मिले ,आशा विश्वास तहाँ

ख्याति त्रिलोक माहीं द्वारिका के नाथ की ||    

 

*लाखेरी ,जिला बूँदी 

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां