Subscribe Us

भावनाएँ



✍️रश्मि वत्स

गहन भावनाएँं करती कभी हृदय में हलचल,
न कोई रूप न ही कोई है आकर ।
वो मुसकुराती कभी सहर्ष ,
तो कभी हृदय में व्यथित करते विचार ।

मन में उमड़ता जब सैलाब,
बहे नैनों से अश्रु धार ।
आंनदित होता जब हृदय,
तो प्रीत बन निखरता व्यवहार।

सुखद अनुभूति का अनुभव कराती,
जाने कितनी भावनाओं का होता संचार।
तो कभी अवसाद ग्रसित होकर ,
समय के साथ बदलता है विचार ।

संघर्ष कर पा लेता काबू भावनाओं पर ,
वही बनता है मनुष्य महान ।
बिखर जाता जो इस जीवन में
वही मनुष्य तज देता है अपने प्राण।

*मेरठ(उत्तर प्रदेश)


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां