Subscribe Us

यादों के परतों में



*सविता दास सवि

 

कोई हमेशा के लिए

कहाँ जाता है

यादों के परतों में

थोड़ा-थोड़ा रह जाता है..

 

कभी कोहरा बनके 

छाता है नज़रों के सामने

छूने जाओ हाथों से तो

गुम हो जाता है

 

जिसके होने से

मन सावन सा

हुआ करता था

उसके जाने से मानो

सुकून का हर बूंद

बारिश के पानी सा

तार और रस्सियों पर

अटक सा जाता है

 

कहते हैं जाने वाले

सितारें बन जाते हैं

तो फिर क्यों उन्हें

जीते जी मिट्टी या

धूल कहा जाता है

 

कोई अपना चला जाए

तो सूना हो जाता अपनेपन

का आंगन मगर 

दिल में सदा के लिए 

फिर भी वो घर कर जाता है

 

कोई हमेशा के लिए 

कहाँ जाता है

यादों के परतों में 

थोड़ा-थोड़ा

रह जाता है।

 

*तेजपुर,शोणितपुर ,असम

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां