Subscribe Us

सावनी बूँदों की मधुर मनुहार



✍️पुष्पा सिंघी


मानसून की प्रथम फुहार !
खोल रही स्मृतियों के द्वार !!
सजी रंगोली मृदु सपनों की ,
सावनी बूँदों की मधुर मनुहार !!


चूनर रंग-बिरंगी ओढ़ती मही
संवेदना की नाव बहती रही !
फैली स्याही , मिटे हैं आखर
बादलों से बात मन की कही !!


हरी चूड़ियाँ पहनकर इठलायी
मेंहन्दी की पत्तियाँ रंग लायी !
पायल छनकातीं पनिहारिनें ,
परदेसी की आहट दीं सुनायी !!


दर्पण में मुखड़ा लागे प्यारा
शुभ्र चन्द्रिका ने रूप संवारा !
अधरों पर गीति-छंद नर्तन ,
सावन पावन प्रीति-हरकारा !!


*कटक


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां