Subscribe Us

फूल से खुशबू कभी जुदा नहीं होती



✍️ सुषमा दीक्षित शुक्ला

फूल से खुशबू कभी जुदा नहीं होती।

पाकीज़गी प्यार की बेखुदा नहीं होती ।

 

है अगर कशिशे मोहब्बत रूह की।

तो  बाखूदा ये गुमशुदा नहीं होती।

 

जंग ए उल्फत में अगर हार हो मुमकिन।

इससे बेहतर तो इश्क की अदा नहीं होती ।

 

प्यार की राह  में अगर मौत भी आए ।

इससे प्यारी तो यार की कदा नहीं होती ।

 

फूल से खुशबू कभी जुदा नहीं होती ।

पाकीज़गी  प्यार की बेखुदा नहीं होती ।

 

हो हासिले इश्क ,नहीं मुमकिन हरदम ।

सुलह जज्बात से करके संभल जा  ऐ ! दिल।

 

टूटते दिल में वैसे भी कोई सदा नहीं होती।

फूल से खुशबू कभी जुदा नहीं होती ।

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां