Subscribe Us

फलसफा



 ✍️सोनल पंजवानी


वक़्त ने सिखा ही दिया

उन जाते लम्हों ने

आवाज़ देकर

ये बता ही दिया

अपनी आह को सुन कर

पलकों की कोरों से झरती

लड़ी को छू कर

मन की पीड़ा को भी

महसूस कर लो

फिर बिखेर देना

इक मीठी मुस्कान

और देखना...कैसे थमता है 

ये ग़म का स्याह अंधेरा।

*निपानिया, इंदौर


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां