Subscribe Us

मौन -वेदना



*पूजा झा


नित रोज नए दस्तक देकर 
एक आह सी देती है,
कैसी मेरी मौन- वेदना!!


आस के लिबासों से लिपटी,
जुड़ी अतीत के धागों से
बिना गुथे ही जुड़ जाती है,
ये मेरी अतृप्त आत्मा
कैसी मेरी मौन-वेदना!


जगती हूँ तो पाती बिखरी,
निंद्राभंग होते ही जिसकी
टीस से व्याकुल हुई आत्मा
कैसी मेरी मौन-वेदना!


पर्वत-श्रृंखला सी जीवन काया,
जिसपे न कोई जीवन आया
सारी उम्मीदों को भूलकर
कहती दर्पण से यही अक्सर,
क्या की थी यही कामना?
कैसी मेरी मौन-वेदना!!
*जंदाहा,हाजीपुर,बिहार


 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां