Subscribe Us

मां के हाथ की रोटी



✍️रश्मि वत्स
माटी की वो सौंधी खुशबू
जब तन-मन को महकाती है।
माँ के हाथों की रोटी की
याद बहुत फिर आती है ।।
तपिश सहनकर चूल्हे की
भोजन सभी को खिलाती है ।
संतुष्ट कर अपने भोजन से
स्वयं तृप्ति पा जाती है ।।
खिलते चहरे देख बच्चों के
पीड़ा स्वयं की भूल जाती है ।
माँ तो आखिर माँ होती है
अन्नपूर्णा तभी कहलाती है ।।
चाहे सुख हो ,चाहे दुख हो
चाहे परिस्थिति हो विकट अपार।
मातृत्व की छांव से अपने
महकाती सदैव ही घर संसार ।।
समर्पण माँ के को कभी न भूलना
ईश्वर रुप में माँ है साक्षात भगवान।
सदैव करो तुम माँ का वंदन
तर जाओगे तुम नादान ।।

*मेरठ (उत्तर प्रदेश)


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां