Subscribe Us

खत



✍️अलका 'सोनी'

 

मेरे जीवन में 

तुम्हारा आना, मानों

नये वसन्त और

अनगिनत खुशियों का

था आना

 

शांत हृदय में

कहीं गहरे सोये

भावों का लहरों की

तरह उमड़कर आना

और फिर छूकर

चुपचाप चले जाना

 

तब कहाँ था इतना

खुलापन और साधन

वर्जनाओं, संकोच के

पहरे ने पथ को रोक दिया

संस्कारों ने बढ़ने से 

टोक दिया

 

अपनी बातें कभी

कह भी नहीं पायी

लिखे थे जो ख़त

उन्हें भेज न पायी

 

लेकिन रखा है अब तक

उनको मैंने सम्हाल कर

मन की  संदूक में 

कहीं दबाकर

 

जीवन के राहों में

चलते-चलते

मिल जाओ कहीं

मुझसे कभी

अब इक पल भी

देर किये बिन

चाहूंगी तुम्हें दे

देना वो सारे प्रतीक

जो थे बस तुम्हारे लिए.....

 


*बर्नपुर, पश्चिम बंगाल

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 




टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां