Subscribe Us

चलें..तो ही पहचान होती है



✍️नमिता गुप्ता 'मनसी'


सुनों..

राहें अंजान ही होती हैं,

चलें तो ही पहचान होती है !!

पथ दूभर हो,

या कि दुश्वारियों भरा

मन हो दृढ़,

तो बाधाएं मेहमान होती हैं !!

चले हम..चलना ही था,

कहो डर कैसा

ये मुट्ठी भर आशाएं भी

भगवान् होती हैं !!

सुनों, भावों की तहरीरों को

मंजिल बना लिया

बिन तुम्हारे, कहां

वीथिका आसान होती है !!

हां, राहें अंजान ही होती हैं,

चलें तो ही पहचान होती है !!

*मेरठ

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां