Subscribe Us

आया सावन

 



✍️आशु द्विवेदी

देखो फिर से आया सावन। 

सबके मन को भाया सावन। 

 

गरज़ गरज़ के बादल गरजे।

रिमझिम रिमझिम बूंदे बरसे।

 

मस्ती में सब मिल कर झूमे। 

बागों में देखो डल गए झूले। 

 

सन सन सन बहती हवाएँ।

कोयल अपना गीत सुनाएँ। 

 

वन में नाच रहे हैं मोर। 

पंछी भी देखो करते शोर। 

 

चारो तरफ हरियाली छाई। 

किसानो के मन को खूब लुभाई। 

*दिल्ली

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां