Subscribe Us

आजाद की मातृभूमि 







✍️संजय वर्मा 'दॄष्टि'






शहीदों की क़ुरबानी से, हुआ देश आजाद हमारा है 
लहराता है जब तिरंगा ,लगता कितना प्यारा है 

कश्मीर से कन्याकुमारी तक,भारत को सबने संवारा है 
मिली आजादी से भारत ,अब लगता कितना प्यारा है 
बहती गंगा-जमुना सी नदियाँ ,यहाँ की पावन धारा है 
लहराता है  जब तिरंगा ,लगता कितना प्यारा है 
शहीदों की क़ुरबानी से, हुआ देश आजाद हमारा है 

आजाद होने के लिए सबने  भारत माँ   को  पुकारा है 
भारत माँ का वंदन करके, शहीदों ने सब  को तारा है 
खुली बेड़ियाँ शहीदों से, अब तो स्वतंत्रता ही सहारा है

लहराता है  जब तिरंगा ,लगता कितना प्यारा है 
शहीदों की क़ुरबानी से, हुआ देश आजाद हमारा है 

वन्दे मातरम के नारों को ,मिलकर सबने पुकारा है 
भारत  के कर्णधारों को ,तब भारत माँ ने दुलारा है 
"आजाद "की मातृभूमि का, भाभरा कितना प्यारा है
लहराता है जब तिरंगा ,लगता कितना प्यारा है 
शहीदों की क़ुरबानी से, हुआ देश आजाद हमारा है 

*मनावर जिला -धार (म.प्र.)

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां