Subscribe Us

मैंनें  देखा सच  कहते  है



*टीकम चन्दर ढोडरिया


सोन परी उसको कहते है

मैंनें  देखा सच  कहते  है

           ***

सुमन खिले उसके गालों पर

बातों  में  मोती  झरते  है

            ***

घुल जाती खुशबू मौसम में

बाल हवा में जब उड़ते है

              ***

घुलता उबटन जब जब जल में

सागर  में  मोती  बनते  है

               ***

मन करता है छूलूँ उसको

मैला  होनें  से  डरते   है

                ***

बदलेंगे दिन यह बदलेंगे

हम सुनते है वह कहते है

               ***

कैसे कहदे हम है मानव

यह कहते भी अब डरते है

                    ***

कितना भी भूलूँ मुश्किल है

रह रह घुँघरू बज उठते है

            ..***

नदी किनारें छाँव नीम की

आओं चल  बातें करते है

             ***

*छबड़ा जिला बारां राजस्थान

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां