Subscribe Us

भारत का झंडा ऊँचा कर



*डा केवलकृष्ण पाठक
कर्म  ही  है  देश  भक्ति,अपना कार्य पूरा कर
सत्य का ले आसरा, चल सत्पथ पर हो निडर


सेवा  ही हो भावना ,जो दीं पीड़ित जन मिले
सत्कर्म-  व्यवहार से ,दुष्कार्य  बाधा दूर कर


देश  की  संपत्ति  को ,हानि न पहुंचाए कोई
भावना हो देश भक्ति,सबके मन में पैदा कर


निष्ठा पूर्वक  कार्य मेरे ,देश का हर जन करे
स्वर्ग ही फिर उतर ,आएगा हमारी धरती पर


हो न कोई जाति बंधन,सब में भाईचारा हो।
देश में अलगाव  का ,वातावरण न पैदा कर


सारे ही   संसार में है ,मान  भारत  देश का  
उस प्रतिष्ठा को बढ़ा,भारत का झंडा ऊँचा कर


*जींद( हरियाणा)

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां