Subscribe Us

मैं और मेरी माँ



*डॉ. अनिता सिंह
मैं और मेरी माँ का रिश्ता अटूट ।
जिसमें नहीं कोई डाल सकता फूट।

माँ की ममता का मीठा अहसास ।
कर जाता मुझे हरदम उदास ।

काश मैं बाँट सकती माँ का दर्द ।
दुखों को उठा लेती बनकर हमदर्द।

समझा पाती सबको उनकी पीड़ा ।
उनके अरमानों को देती कोई दिशा।

उनके चेहरे पर ला सकती खुशियाँ ।
बनकर उनकी अच्छी बिटिया ।

तमन्ना है मेरी हर रात हो उनकी दिवाली ।
हर दिन में हो होली की गुलाली ।

हर शाम हो उनकी सुरमई ।
हर सुबह हो उनकी सतरंगी ।

मैं और मेरी माँ रहते हरदम साथ ।
उनके हाथों में रहता सदैव मेरा हाथ ।

*डॉ. अनिता सिंह,बिलासपुर (छत्तीसगढ़)


 


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां