Subscribe Us

भगवान बचाए रखना



*आशीष तिवारी निर्मल

 

भटक चुका है कितना बचपन,भगवान बचाए रखना, 

हाथों में है मोबाइल,सिगरेट,गन भगवान बचाएl

 

रोती हैं बेबस कितनी सीते और द्रोपती अब भी, 

घूम रहे दुर्योधन रावण,दु:शासन,भगवान बचाए रखनाI

 

गलियों में निर्वस्त्र घुमाया इक अबला को मिलकर सबने , 

घोषित कर के उसको डायन,भगवान बचाए रखनाI

 

सड़कों से संसद तक जा पहुंचे जेबकतरे जितने थे, 

जेलों से भी जीत रहे हैं इलेक्शन,भगवान बचाए रखनाI

 

तबाही के मुहाने पर है खड़ी युवा पीढ़ी अब तो निर्मल, 

ले रहे दवाई देख-देख विज्ञापन,भगवान बचाए रखनाI

 

*आशीष तिवारी निर्मल,रीवा मध्यप्रदेश

 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे- http://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां