Subscribe Us

वेदना



*संजय वर्मा "दॄष्टि"


ना घर ,ना घौंसला 
मुंडेरो और कुछ बचे पेड़ों पर 
बैठकर गौरय्या ये सोच रही कि -
इंसानों को रहने के लिए
कुछ तो है मेरे देश मे 
सीमेंट कांक्रीट के मकान होने से 
क्या मेरे लिए कुछ भी नहीं है
मेरे शहर मे |



ची -ची बोल के 
बुद्दिजीवी इंसानों से 
कह रही हो जैसे 
इंसानों के हितो के साथ 
हमारे हितों का भी ध्यान रखो 
क्योकि हम गौरय्या पक्षी है |
कई प्रकार के विकिरण के प्रभाव से
वैसे ही हमारी प्रजाति कम हो रही है


नहीं तो गाते रह जाओगे
" छु न -छु न करती आई चिड़िया 
दाल का दाना ले चिड़िया। ... " 
और यही सवाल अनुतरित बन 
रह जायेगा महज किताबों मे
और नन्हे बच्चों के दिलो में


*संजय वर्मा "दॄष्टि" ,मनावर (धार )



 

 


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां