Subscribe Us

मैंने तो तुमको चाहा है



*विजय कनौजिया*


तुम मानो या न मानो
मैंने तो अपना माना है
तुम चाहो या न चाहो
मैंने तो तुमको चाहा है..।।

हर स्मृतियों में तेरी ही
यादों को खूब संभाला है
तुम याद भले ही न करना
मुझको तो याद दिलाना है..।।

अभिलाषा के हर पन्ने पर
बस तेरा नाम उकेरा है
हर पृष्ठ सुसज्जित तुमसे है
तुमको बस इसे सजाना है..।।

आधार मेरे जीवन का हो
आभार मेरा स्वीकार करो
तुम साथ हमेशा मेरे हो
बस ये आभास कराना है..।।

तुम मानो या न मानो
मैंने तो अपना माना है
तुम चाहो या न चाहो
मैंने तो तुमको चाहा है..।।
मैंने तो तुमको चाहा है..।।


*विजय कनौजिया
ग्राम व पत्रालय-काही
जनपद-अम्बेडकर नगर (उ0 प्र0)
मो 09818884701







 






अब नये रूप में वेब संस्करण  शाश्वत सृजन देखे

 









शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733






















टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां