Subscribe Us

आरोपी एनकाउंटर में मारे गए



*संगीता श्रीवास्तव सुमन*

ऐसे ही एनकाउंटर निर्भया और
बाकी केसेस में देखने को मिले |

ये कविता ख़ास , ये लिखते वक्त ही ये ख़बर आयी |

हर तरफ़ हवा दमघोट रही
सांसें धड़कन को, मर जाती |
कब बदलेगी फ़ितरत दुनिया
जो कीचड़ कभी उतर जाती |

इस ग़म की रात गुजर जाती
तुम हँस देती न, सँवर जाती |
ये मातम सा जो फैला है
ज़िन्दगी आसान कर जाती | 

ये भेद हमी ने हैं पाले
बहन भाई बराबर जाती |
संसद अदालत सियासत अब
वहशीयत देख सिहर जाती |

मन ,मन की बातों का मौसम
तू अपने मन ही धर जाती |
ऐ काश कयामत आ जाती
कोई खुशी दे ख़बर जाती |

*संगीता श्रीवास्तव सुमन






 






अब नये रूप में वेब संस्करण  शाश्वत सृजन देखे

 









शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733





टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां