Subscribe Us

तेवर



*डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा*

"दूधवाले भैयाजी, क्या आप हमारे यहाँ भी प्रतिदिन एक लीटर दूध दे सकते हैं ?" पड़ोसी के घर में प्रतिदिन दूध देने वाले से हमने पूछा।

"दे सकता हूँ साहब, पर आज से नहीं, कल से।" दूधवाले ने कहा।

"ठीक है, तो तय रहा कल से आप एक किलोग्राम की पैकेट हमारे घर छोड़ेंगे।” हमने कहा।

"नहीं साहब, मैं प्लास्टिक की थैली में दूध नहीं बेचता। मैं आपके सामने ही नाप कर आपके बर्तन में दूध दूंगा। यदि किसी दिन आपके घर में मेरे आने के समय कोई भी नहीं होंगे, तो एक बर्तन बाहर छोड़ दीजिएगा, मैं उसमें डाल दिया करूंगा।" दूधवाले ने कहा।

दूधवाले के जाने के बाद श्रीमती जी बोलीं, "देखा तेवर। घर-घर घूम कर दूध बेच रहा है और तेवर...."

"मैडम जी, उसने कुछ गलत तो नहीं कहा। यही तेवर आज हर आम और खास नागरिक में होने चाहिए।" हमने श्रीमती जी से कहा।

 


*डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा

प्रबंधक (प्रशासन, विद्योचित, ग्रंथालय)

छत्तीसगढ़ पाठ्यपुस्तक निगम

छ.ग. माध्यमिक शिक्षा मंडल परिसर

पेंशनबाड़ा, रायपुर, छत्तीसगढ़ 492001

9827914888, 9109131207


 

 

 

अब नये रूप में वेब संस्करण  शाश्वत सृजन देखे

 









शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733






















टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां