Subscribe Us

मर रही सम्वेदनाएँ,आओ जगाएं उन्हें



*डॉ साधना गुप्ता*

मर रही सम्वेदनाएँ,आओ जगाएं उन्हें 
दौड़ पड़ते थे कभी गिरते हुए को थामने

आज क्या हो गया?वो दर्द अब होता नहीं,

जल रहा था आदमी ,क्यो?बचाया ना उसे

जलते हुए का वीडियो ,बस बनाते रह गए 

वायरल कर  विडियो को, लाइक-कमेंट गिनते रहे

मर गया वह आदमी,पर बचाया ना उसे 

विज्ञान की इस अंधकारा से निकाले उसे

नष्ट होती संस्कृति को थामने आगे बढ़े

मर रही सम्वेदनाएँ,आओ जगाएं उन्हें  ।

 

*डॉ साधना गुप्ता कोटा,मो . 9530350325





 























शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733







टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां