Subscribe Us

जय-जय मध्यप्रदेश



*अशोक आनन*
जय - जय मध्यप्रदेश ।
भारत का यह हृदय- प्रदेश ।


सतपुड़ा और विंध्याचल से -
इसकी शान निराली ।
शिप्रा , चंबल और नर्मदा -
लाएं यहां खुशहाली ।
महाकाल की पावन नगरी -
तीरथ सम परिवेश ।


सांची , मांडव और खजुराहो -
इसकी शान बढ़ाते ।
विक्रम , कालिदास रत्न -से ।
चम - चम चमचमाते ।
सद्भाव का सूरज आकर -
देता रोज़ संदेश ।


गम्मत , छाहुर , रास , तमाशा -
स्वांग , तुर्रा , माच , कलंगी ।


केसर , चंदन सम है माटी -
पावन और सुगंधी ।


बोली गुड़ की डली सरीखी -
इन्द्र - धनुषी वेश ।


संस्कृति का संगम होता -
लगते जब यहां मेले ।
फागुन में खूब रंग बरसते -
सावन में डरते झूले ।
गौरव से ये गाथा कहते -
वीरों के अवशेष ।


*अशोक आनन, मक्सी,जिला-शाजापुर (म.प्र.)मोबाइल नं :9981240575






















शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733







टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां