Subscribe Us

दीप हायकु












दीयों ने लिखे-
रोशनियों के छंद
दीवाली पर ।
***
झोपड़ियों ने-
द्वार पर दीये नहीं
तीली जलाई ।
***
दिखते नहीं-
अब माटी के दीये
देहरी सूनी ।
***
कभी न बुझें-
लड़ते रहें सदा
दीये तम से ।


*अशोक आनन मक्सी जिला-शाजापुर (म.प्र.)मोबाइल नं : 9981240575




 













शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां