Subscribe Us

नारी ही रहने दो


सीमा जोशी

मैं नारी हूँ
नारी ही रहने दो
कुछ विशिष्ट हूँ बस
नारी ही रहने दो !

हूँ लबरेज़ स्नेह करूणा से
पृकृति हूं प्यारी
बस प्यारी ही रहने दो !

मुझ जैसा ही फूल खिले
उपवन की क्यारी हूँ
बस क्यारी ही रहने दो !

दर्द पीड़ा सह लूंगी
अद्भुत हूँ न्यारी हूँ
बस न्यारी ही रहने दो !

मंदिर की ज्योति मैदान की ज्वाला
जंग की चिंगारी हूँ
बस चिंगारी ही रहने दो !

कुछ विशिष्ट हूँ बस
नारी हूँ
नारी ही रहने दो !

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां