Subscribe Us

मुक्तक



*अ कीर्ति वर्धन

बचपन  की अठखेलियाँ , कब  कहीं  मोहताज  हैं,

बाधाओं  की  चिन्ताओं से, कब  कहीं  मोहताज है

आग मे भी हाथ डालें, पानी  से बचपन डरता नही,

साँप से खेलता है बचपन,  कब  कहीं मोहताज है?

********************************************


अहंकार  का  बोझ  जब , सिर   पर   चढने   लगा,

आदमी  को  आदमी  तब , कीड़े  सा  लगने  लगा|

ढोने  लगा  वह  बोझ अपना, अपने कांधो पर यहाँ,

आदमी से आदमियत का, अहसास भी घटने लगा|

*मुजफ्फरनगर

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



 

 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां